Thursday, August 26, 2010

"तरई"


.

.
जिजिया!
माई कहाँ गयी?

साढे चार साल का नन्हका
रिरियाता है
सात साल की "तरई" की गोद मे,

कमर तक पानी मे
खड़ी
भूख से ऐंठती अंतड़ियों के लिए
कुछ खोजती
तरई
जवाब नहीं दे पाती,

कुछ भी!!

सुना है
बिछिनैया फिर से उफान पर है!

*amit anand

1 comment:

  1. क्या आपने हिंदी ब्लॉग संकलक हमारीवाणी पर अपना ब्लॉग पंजीकृत किया है?
    अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें.
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    ReplyDelete